Wandering thoughts

Tasalli si hai Dil ko,
Aur Ruuh ko Sukoon hai
Tere hone se ae Hum Dum,
Hai Khushi si aur Junoon hai…

Advertisements
“जिसने मुझको प्यासा रक्खा बनी रहे वह भी हाला,
जिसने जीवन भर दौड़ाया बना रहे वह भी प्याला,
मतवालों की जिहवा से हैं कभी निकलते शाप नहीं,
दुखी बनाया जिसने मुझको सुखी रहे वह मधुशाला”